प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 2.0: धुएं से मुक्त रसोई का सपना होगा साकार, गरीब महिलाओं को मिलेगा मुफ्त गैस कनेक्शन 

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY) एक महत्वाकांक्षी सामाजिक कल्याण योजना है जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 मई 2016 को शुरू किया था। इस योजना का उद्देश्य गरीबी रेखा से नीचे (BPL) के परिवारों की महिलाओं को 5 करोड़ एलपीजी कनेक्शन वितरित करना है। योजना का लक्ष्य ग्रामीण और वंचित परिवारों को स्वच्छ खाना पकाने का ईंधन उपलब्ध कराना है।

नामप्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना
पूरा नामप्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना
द्वारा अनुमोदितभारत सरकार
उद्देश्यगरीब परिवारों को स्वच्छ ईंधन (एलपीजी) प्रदान करना और धुएं से मुक्त रसोई सुनिश्चित करना
लाभार्थीदेश भर के गरीब परिवार, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों और शहरी झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले परिवार
आधिकारिक वेबसाइटhttps://www.pmujjwalayojana.com
संबंधित जानकारीयोजना के तहत 5 करोड़ से अधिक एलपीजी कनेक्शन वितरित किए गए हैं
– लाभार्थियों को पहली बार मुफ्त एलपीजी कनेक्शन और सिलेंडर प्रदान किया जाता है
– योजना का उद्देश्य महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार लाना और पर्यावरण की रक्षा करना है

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना क्या है?

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई एक योजना है जिसके तहत गरीब परिवारों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान किया जाता है। इस योजना के तहत, सरकार पात्र बीपीएल परिवारों को प्रति कनेक्शन 1600 रुपये की वित्तीय सहायता के साथ जमा-मुक्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान करती है। लाभार्थी को निःशुल्क एक जमा-मुक्त स्टोव और पहला रिफिल सिलेंडर मिलता है।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के मुख्य विवरण

  • फरवरी 2024 तक, PMUY के तहत सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 10.2 करोड़ से अधिक एलपीजी कनेक्शन वितरित किए गए हैं।
  • इस योजना के कारण 2019 में 2014 की तुलना में एलपीजी की खपत में 56% की वृद्धि हुई।
  • अगस्त 2021 में, पीएम मोदी ने उज्ज्वला 2.0 लॉन्च किया ताकि 1 करोड़ और मुफ्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान किए जा सकें। इससे कुल कवरेज बढ़कर 10.35 करोड़ परिवार हो गई।
  • 2021-22 के केंद्रीय बजट में, सरकार ने 1 करोड़ और कनेक्शन प्रदान करने की घोषणा की।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की पात्रता मानदंड

  • आवेदक को बीपीएल परिवार की 18 वर्ष से अधिक आयु की महिला होना चाहिए
  • आवेदक का नाम SECC-2011 डेटा में होना चाहिए या वह PMAY-G, BPL राशन कार्ड, अंत्योदय अन्न योजना आदि की लाभार्थी होनी चाहिए।
  • परिवार के पास पहले से एलपीजी कनेक्शन नहीं होना चाहिए
  • आवेदक के पास बचत बैंक खाता होना चाहिए

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • ग्राम पंचायत/नगरपालिका द्वारा अधिकृत बीपीएल प्रमाण पत्र
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • फोटो पहचान पत्र (आधार कार्ड/वोटर आईडी)
  • पासपोर्ट आकार का फोटो
  • बचत बैंक खाता विवरण

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया

  • SECC-2011/PMUY लाभार्थी सूची में पात्रता की जांच करें
  • नाम, पता, बैंक खाता, आधार आदि जैसे विवरणों के साथ PMUY KYC आवेदन पत्र भरें
  • निकटतम एलपीजी वितरक के पास दस्तावेजों के साथ फॉर्म जमा करें
  • सत्यापन के बाद मुफ्त स्टोव और पहला रिफिल सिलेंडर प्राप्त करें

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के हालिया घटनाक्रम

  • अगस्त 2023 में, सरकार ने एलपीजी की कीमतों में 200 रुपये प्रति सिलेंडर की कटौती की और PMUY का विस्तार 75 लाख और लाभार्थियों तक किया।
  • सितंबर 2023 में, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 75 लाख परिवारों को कनेक्शन प्रदान करने के लिए 1650 करोड़ रुपये के आवंटन के साथ उज्ज्वला योजना 3.0 को मंजूरी दी।
  • हालांकि, RTI डेटा से पता चलता है कि 2022-23 में PMUY लाभार्थियों में से 1 में से 4 ने शून्य या केवल 1 रिफिल लिया, जो संभवतः सिलेंडर की कीमतों में तेज वृद्धि के कारण था।
  • 31 दिसंबर 2023 को, पीएम मोदी ने अयोध्या में 100 मिलियनवें PMUY लाभार्थी के घर का अचानक दौरा किया।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का प्रभाव

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना ने गरीब परिवारों, विशेष रूप से महिलाओं के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डाला है। स्वच्छ ईंधन तक पहुंच ने उनके स्वास्थ्य में सुधार किया है और धुएं से होने वाली बीमारियों को कम किया है। इससे महिलाओं को लकड़ी और उपले इकट्ठा करने में लगने वाला समय भी बचा है जिससे वे अन्य उत्पादक गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित कर सकती हैं।

हालांकि, गैस रिफिल की बढ़ती लागत कई लाभार्थियों के लिए एक चुनौती बनी हुई है। कुछ परिवारों के लिए सिलेंडर का खर्च उठाना मुश्किल हो गया है। सरकार को रिफिल की कीमतों को किफायती बनाए रखने और योजना के दीर्घकालिक लाभों को सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने की आवश्यकता है।

निष्कर्ष

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 2016 से गरीबों के लिए स्वच्छ खाना पकाने का ईंधन सुलभ बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम रही है। इसने 10 करोड़ से अधिक बीपीएल परिवारों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान किए हैं। योजना काफी लोकप्रिय रही है, लेकिन गैस रिफिल की लागत कई लाभार्थियों के लिए एक बड़ी चुनौती बनी हुई है।

सरकार को इस मुद्दे का समाधान करने और योजना के प्रभाव को बनाए रखने के लिए कदम उठाने होंगे। कुल मिलाकर, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना गरीब परिवारों के लिए एक वरदान साबित हुई है।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY) से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs):

  1. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना क्या है?
    प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई एक योजना है जिसके तहत गरीब परिवारों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान किया जाता है। इस योजना के तहत, सरकार पात्र बीपीएल परिवारों को प्रति कनेक्शन 1600 रुपये की वित्तीय सहायता के साथ जमा-मुक्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान करती है।
  2. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लिए कौन पात्र है?
    इस योजना के लिए पात्रता मानदंड हैं:
  • आवेदक को बीपीएल परिवार की 18 वर्ष से अधिक आयु की महिला होना चाहिए
  • आवेदक का नाम SECC-2011 डेटा में होना चाहिए या वह PMAY-G, BPL राशन कार्ड, अंत्योदय अन्न योजना आदि की लाभार्थी होनी चाहिए
  • परिवार के पास पहले से एलपीजी कनेक्शन नहीं होना चाहिए
  • आवेदक के पास बचत बैंक खाता होना चाहिए
  1. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लिए कौन से दस्तावेज चाहिए?
    आवश्यक दस्तावेज हैं:
  • ग्राम पंचायत/नगरपालिका द्वारा अधिकृत बीपीएल प्रमाण पत्र
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • फोटो पहचान पत्र (आधार कार्ड/वोटर आईडी)
  • पासपोर्ट आकार का फोटो
  • बचत बैंक खाता विवरण
  1. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लिए कैसे आवेदन करें?
    आवेदन प्रक्रिया:
  • SECC-2011/PMUY लाभार्थी सूची में पात्रता की जांच करें
  • नाम, पता, बैंक खाता, आधार आदि जैसे विवरणों के साथ PMUY KYC आवेदन पत्र भरें
  • निकटतम एलपीजी वितरक के पास दस्तावेजों के साथ फॉर्म जमा करें
  • सत्यापन के बाद मुफ्त स्टोव और पहला रिफिल सिलेंडर प्राप्त करें
  1. क्या बिना वयस्क महिला सदस्य के गरीब परिवारों को प्रधानमंत्री उज्जवला कनेक्शन जारी किया जा सकता है?
    नहीं, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना कनेक्शन केवल गरीब परिवार की वयस्क महिला सदस्य के नाम पर जारी किया जा सकता है।
  2. क्या उज्ज्वला 2.0 के तहत आधार प्रमाणीकरण अनिवार्य है?
    हां, उज्जवला 2.0 के तहत नामांकित कनेक्शन के लिए आधार प्रमाणीकरण बायोमैट्रिक अथवा मोबाइल ओटीपी माध्यम से किया जाएगा। असम और मेघालय राज्यों में ही आधार प्रमाणीकरण वैकल्पिक है।
  3. क्या उज्ज्वला 2.0 के तहत लाभार्थी को कनेक्शन लेते समय कुछ भुगतान करना होगा?
    नहीं, उज्ज्वला 2.0 के तहत तेल विपणन कंपनियां ग्राहक को एलपीजी स्टोव और पहला रिफिल निःशुल्क प्रदान करेंगी। इसलिए उज्ज्वला 2.0 के तहत एलपीजी कनेक्शन लेते समय ग्राहक को कुछ भी भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।

Leave a Comment