क्रिषि सिंचाई योजना(PMKSY): किसानों के लिए जल संरक्षण और सिंचाई की एक महत्वपूर्ण पहल

भारत एक कृषि प्रधान देश है जहां देश की लगभग 70% आबादी कृषि पर निर्भर है। लेकिन सिंचाई की कमी और जल संसाधनों के अभाव के कारण किसानों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। इन समस्याओं को दूर करने के लिए भारत सरकार ने क्रिषि सिंचाई योजना शुरू की है।

नामप्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY)
पूरा नामप्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना
द्वारा अनुमोदितभारत सरकार
उद्देश्यदेश में सिंचाई के दायरे और क्षेत्र का विस्तार करना
पानी के उपयोग की दक्षता में सुधार करना
फसल उत्पादकता बढ़ाना
किसानों की आय दोगुनी करना
लाभार्थीभारत के सभी किसान, विशेष रूप से छोटे और सीमांत किसान
मुख्य घटकहर खेत को पानी (HKKP)
त्वरित सिंचाई लाभ कार्यक्रम (AIBP)
जल संचयन संरचना का निर्माण
सूक्ष्म सिंचाई को बढ़ावा देना
आधिकारिक वेबसाइटhttps://pmksy.gov.in
संबंधित जानकारीयोजना की शुरुआत 1 जुलाई 2015 को हुई
2024 तक 99 सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करने का लक्ष्य
2022-23 के बजट में PMKSY के लिए 12,954 करोड़ रुपये आवंटित

क्रिषि सिंचाई योजना क्या है?


क्रिषि सिंचाई योजना एक केंद्र प्रायोजित योजना है जिसे जुलाई 2015 में शुरू किया गया था। इस योजना का मुख्य उद्देश्य सिंचाई के तहत क्षेत्र का विस्तार करना, जल उपयोग दक्षता में सुधार करना और फसलों की उत्पादकता बढ़ाना है। इस योजना के तहत किसानों को सिंचाई के लिए वित्तीय सहायता और तकनीकी मार्गदर्शन प्रदान किया जाता है।

क्रिषि सिंचाई योजना के घटक


क्रिषि सिंचाई योजना में चार प्रमुख घटक शामिल हैं:

  1. हर खेत को पानी (HKKP)
  2. प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY)
  3. सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग
  4. जल संरक्षण और जल संचयन

क्रिषि सिंचाई योजना की पात्रता


क्रिषि सिंचाई योजना के लिए सभी किसान पात्र हैं। इस योजना के तहत किसानों को सिंचाई के लिए वित्तीय सहायता और तकनीकी मार्गदर्शन प्रदान किया जाता है। किसानों को अपने खेतों में सिंचाई प्रणाली स्थापित करने के लिए सब्सिडी भी दी जाती है।

क्रिषि सिंचाई योजना के लाभ

  • सिंचाई के तहत क्षेत्र का विस्तार होगा
  • जल उपयोग दक्षता में सुधार होगा
  • फसलों की उत्पादकता बढ़ेगी
  • किसानों की आय में वृद्धि होगी
  • खेती की लागत में कमी आएगी
  • जल संरक्षण और जल संचयन को बढ़ावा मिलेगा

क्रिषि सिंचाई योजना के तहत सब्सिडी


क्रिषि सिंचाई योजना के तहत किसानों को सिंचाई प्रणाली स्थापित करने के लिए सब्सिडी दी जाती है। सब्सिडी की राशि सिंचाई प्रणाली के प्रकार और भूमि के आकार पर निर्भर करती है। सामान्य श्रेणी के किसानों को 35% से 50% तक की सब्सिडी दी जाती है, जबकि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के किसानों को 100% सब्सिडी दी जाती है।

क्रिषि सिंचाई योजना के लिए आवेदन कैसे करें?


क्रिषि सिंचाई योजना के लिए आवेदन करने के लिए किसानों को अपने नजदीकी कृषि विभाग के कार्यालय या ऑनलाइन पोर्टल पर जाना होगा। आवेदन पत्र भरने के बाद किसानों को अपने जमीन के दस्तावेज और पहचान पत्र जमा करने होंगे। आवेदन की जांच के बाद योजना के तहत लाभ प्रदान किए जाएंगे।

निष्कर्ष

क्रिषि सिंचाई योजना किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण पहल है जो उन्हें सिंचाई के लिए वित्तीय सहायता और तकनीकी मार्गदर्शन प्रदान करती है। इस योजना से न केवल सिंचाई के तहत क्षेत्र का विस्तार होगा बल्कि जल संरक्षण और जल संचयन को भी बढ़ावा मिलेगा। किसानों को इस योजना का लाभ उठाना चाहिए और देश की खाद्य सुरक्षा में योगदान देना चाहिए।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY) से जुड़े अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs):

1: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना क्या है?
उत्तर: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY) एक केंद्र प्रायोजित योजना है जिसे 2015 में शुरू किया गया था। इसका उद्देश्य सिंचाई के तहत क्षेत्र का विस्तार करना, जल उपयोग दक्षता में सुधार करना और फसलों की उत्पादकता बढ़ाना है।

2: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के मुख्य घटक क्या हैं?
उत्तर: PMKSY के चार मुख्य घटक हैं:

  • हर खेत को पानी (HKKP)
  • प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY)
  • सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग
  • जल संरक्षण और जल संचयन

3: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए कौन पात्र है?
उत्तर: PMKSY के लिए सभी किसान पात्र हैं। इस योजना के तहत किसानों को सिंचाई के लिए वित्तीय सहायता और तकनीकी मार्गदर्शन प्रदान किया जाता है।

4: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के क्या लाभ हैं?
उत्तर: PMKSY के मुख्य लाभ इस प्रकार हैं:

  • सिंचाई के तहत क्षेत्र का विस्तार
  • जल उपयोग दक्षता में सुधार
  • फसलों की उत्पादकता में वृद्धि
  • किसानों की आय में वृद्धि
  • खेती की लागत में कमी
  • जल संरक्षण और जल संचयन को बढ़ावा

5: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत सब्सिडी कैसे मिलती है?
उत्तर: PMKSY के तहत किसानों को सिंचाई प्रणाली स्थापित करने के लिए सब्सिडी दी जाती है। सब्सिडी की राशि सिंचाई प्रणाली के प्रकार और भूमि के आकार पर निर्भर करती है। सामान्य श्रेणी के किसानों को 35% से 50% तक की सब्सिडी दी जाती है, जबकि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के किसानों को 100% सब्सिडी दी जाती है।

6: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए आवेदन कैसे करें?
उत्तर: PMKSY के लिए आवेदन करने हेतु किसानों को अपने नजदीकी कृषि विभाग के कार्यालय या ऑनलाइन पोर्टल पर जाना होगा। आवेदन पत्र भरने के बाद किसानों को अपने जमीन के दस्तावेज और पहचान पत्र जमा करने होंगे। आवेदन की जांच के बाद योजना के तहत लाभ प्रदान किए जाएंगे।

7: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत कर लाभ क्या हैं?
उत्तर: PMKSY में किए गए निवेश पर आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत कर छूट का लाभ मिलता है। इसके अलावा, योजना के तहत प्राप्त ब्याज और अनुदान भी कर मुक्त होते हैं।

8: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना की वर्तमान स्थिति क्या है?
उत्तर: हाल ही में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCEA) ने 93,068 करोड़ रुपए के परिव्यय के साथ वर्ष 2026 तक PMKSY के विस्तार को मंज़ूरी दी है। सरकार ने त्वरित सिंचाई लाभ कार्यक्रम (AIBP), हर खेत को पानी (HKKP) और PMKSY के वाटरशेड विकास घटकों को चार वर्ष (2021-22 से 2025-26) तक के लिये मंज़ूरी दे दी है।

Leave a Comment